अस्थायी जेल के शौचालय में मिला हिस्ट्रीशीट का शव

रतनलाल फूलकटोरी देवी गल्र्स काॅलेज में अस्थाई जेला जहां हुई घटना।
रतनलाल फूलकटोरी देवी गल्र्स काॅलेज में अस्थाई जेला जहां हुई घटना।

-जिला कारागरा में कोरेाना फैलने से रोकने के लिए बनाई गयी है स्थाई जेल
-कोरोना टेस्टिंग और रिपोर्ट आने के बाद ही भेज जाएगा जिला कारागर


मथुरा। जिला कारागार में कोरोना का प्रसार रोकने के लिए उठाये गये अहतियाती कदमों के तहत जनपद में रतनलाल फूलकटोरी देवी गल्र्स काॅलेज में अस्थाई जेल का निर्माण किया गया है। रविवार को इस जेल की सुरक्षा व्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह लग गया। 24 अप्रैल अस्थाई जेल लाये गये एक हिस्ट्रीशीटर का शव शौचालय में फांसी के पफंदे पर लटका शव मिला। हिस्ट्रीशीटर 24 अप्रैल को फायरिंग, जानलेवा हमले और छेडछाड के दो मामलों में अस्थाई जेल लाया गया था। मृतक युवक का भाई भी इसी जेल में बंद हैं।

अस्थाई जेल में बंदी की मौत की सूचना पर जिला प्रशासन में हडकंप मच गया। पुलिस और प्रशासन के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना स्थल का निरीक्षण किया।पुलिस के मुताबिक यहां बंद हिस्ट्रीशीटर वीरेंन्द्र सिंह उर्फ वीरू पुत्र श्याम सिंह परिवारिक परेशानी झेल रहा था। मृतक का भाई भी इसी जेल में बंद है। वह वीरेन्द्र पर लगातार नजर बनाये हुए थे। रविवार को सुबह करीब नौ बजे अस्थाई जेल के बाथरूम में कैदी ने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली।


वीरेंद्र उर्फ वीरू 24 अप्रैल को बंद किया गया था। रविवार सुबह 9 बजे करीब शौचालय में अपने ही बेल्ट से वीरू ने फांसी लगा ली। वीरू के भाई ने बताया कि वह घरेलू परेशानी कारण परेशान चल रहा था। उसके ऊपर दो वारंट थे जिसमें 147 148 149 307 323 504 आईपीसी का वारंट था और दूसरा छेड़खानी संबंधित था 554 342 और 307 का वारंट थ

शैलेंद्र कुमार, मथुरा जेल अधीक्षक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here