देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार आये यूपी में

0
260
देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार आये यूपी में
देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार आये यूपी में

लखनऊ । यूपी के बाहर देश के विभिन्न प्रांतों काम करने वाले श्रमिक हों या फिर कामगार अथवा प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र ही क्यों न हों राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार ने देष में सबसे पहले इन सभी को वापस अपने गृह प्रदेष लाने का बीड़ा उठाया और करके भी दिखाया। यही वजह है कि सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं और अब तक 268 ट्रेनों के माध्यम से तीन लाख से अधिक प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आ चुके हैं।
अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने बुधवार को यहां बताया कि देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में अब तक 268 ट्रेनों के माध्यम से लगभग 3,26,040 प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये हैं। प्रदेश में विगत दिनों में आये कामगार एवं श्रमिकों को मेडिकल स्क्रीनिंग के उपरान्त खाद्यान्न देकर होम क्वारंटाइन हेतु घर भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि गोरखपुर में 43 ट्रेन से 44,574, लखनऊ में 29 ट्रेन से 33,894, प्रयागराज में 14 ट्रेन से 17,162, जौनपुर में 15 ट्रेन से 18,358, बरेली में छह ट्रेन से 7,183, बलिया में नौ ट्रेन से 11,362, प्रतापगढ़ में नौ ट्रेन से 10,730, रायबरेली में सात ट्रेन से 9,103, वाराणसी में 10 ट्रेन से 11,002, आगरा में चार ट्रेन से 4,833, कानपुर में सात ट्रेन से 8,533 प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये हैं। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश के 45 रेलवे स्टेशनों पर ट्रेनों का आवागमन हो रहा है। लगभग 188 और ट्रेनें जिनमें गुजरात से 63, महाराष्ट्र से 61, कर्नाटक से एक, पंजाब से 45, आन्ध्र प्रदेश से एक, राजस्थान से 14, उड़ीसा से दो, गोवा से एक तथा त्रिपुरा से एक ट्रेन की अनुमति दी गई है। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि अब तक प्रदेश के विभिन्न जनपदों में गुजरात से 156, महाराष्ट्र से 38, कर्नाटक से आठ, पंजाब से 50, केरल से चार, तेलंगाना से चार, आन्ध्र प्रदेश से दो, राजस्थान से एक, तमिलनाडु से दो तथा मध्य प्रदेश से एक ट्रेन के माध्यम से प्रवासी कामगार एवं श्रमिकों को लाया गया है। उन्होंने बताया कि परिवहन विभाग की बसों के माध्यम से लगभग 72 हजार से अधिक श्रमिकों व कामगारों को प्रदेश में वापस लाया गया है। इस प्रकार प्रदेश में चार लाख श्रमिक एवं कामगार व्यवस्थित रूप से लाये गये हैं।
उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के दृष्टिगत प्रदेश में लाॅकडाउन अवधि में पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा-188 के तहत 47,793 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 37,28,266 वाहनों की सघन चेकिंग में 39,679 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान लगभग 17.64 करोड़ रूपए का जुर्माना वसूल किया गया। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 2,28,400 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 781 लोगों के खिलाफ 613 एफआईआर दर्ज करते हुए 280 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। फेक न्यूज के तहत अब तक 923 मामलों को संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही की गयी। बुधवार को कुल 29 मामले, जिनमें ट्विटर के नौ, फेसबुक के 19 और टिकटाॅक के एक मामले को संज्ञान में लिया गया है तथा साइबर सेल को आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित कर दिया गया है। फेक न्यूज के तहत अब तक कुल 31 एफआईआर पंजीकृत करायी गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 496 हाॅटस्पाॅट क्षेत्र के 325 थानान्तर्गत 8,52,886 मकान चिन्हित किये गये। इनमें 47,93,653 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में कोरोना पाॅजिटिव पाये गये लोगों की संख्या 1916 है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here