मछली बाजार बना IGI Airport 

Dharmender Singh Malik
2 Min Read

7 करोड़ यात्री सिक्योरिटी में महज 5000 जवान

नई दिल्ली। दिल्ली के इंदिया गांधी अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डा दुनिया के सबसे व्यस्ततम एयरपोर्ट्स में से एक है। हर साल यहां आने और जाने वाले यात्रियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। आईजीआई एयरपोर्ट पर हर साल करीब 7.11 करोड़ यात्री गुजरते हैं। लेकिन इसके बावजूद पिछले कई साल साल से सुरक्षा में लगे सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स यानी सीआईएसएफ के जवानों की संख्या एक ही बनी हुई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आईजीआई एयरपोर्ट पर 2017 से सीआईएसएफ जवानों की संख्या 5000 ही है। ऐसे में एयरपोर्ट की सुरक्षा बिगड़ने के साथ ही यात्रियों की समस्याएं बढ़ रही हैं। मौजूदा समय में आईजीआई एयरपोर्ट का सबसे बिजी टर्मिनल 3 है। यहां हर दिन हजारों की संख्या में यात्री आते और जाते हैं। इस दौरान यात्रियों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। साथ ही लंबी लाइनों भी लगना पड़ रहा है।

See also  5 साल में 654 सीआरपीएफ जवानों ने की आत्महत्या, 50 हजार कर्मियों ने नौकरी छोड़ी

एयरपोर्ट के अफसरों का कहना है कि ऐसा काउंटर्स की कम संख्या छोटी जगह अधिक यात्री और कम सिक्योरिटी स्टाफ के कारण हो रहा है। उनके अनुसार सिक्योरिटी स्टाफ की संख्या 2017 से अब तक 5000 ही है। एयरपोर्ट के एक अफसर ने बताया ‘एयरपोर्ट प्रशासन ने एविएशन मिनिस्ट्री के साथ बैठक की है। इस दौरान उन्हें इस मामले की जानकारी दे दी गई है।

2017 में तय हुआ था कि एयरपोर्ट की सुरक्षा के लिए 5000 सिक्योरिटी स्टाफ भेजा जाएगा। उस समय एयरपोर्ट पर सालाना यात्रियों की संख्या 5.7 करोड़ से 6.5 करोड़ तक थी। लेकिन अब यात्रियों की औसत संख्या सालाना 7 करोड़ से ज्यादा हो गई है। अब हमें अधिक सिक्योरिटी स्टाफ की जरूरत है। दिसंबर में यात्रियों की बढ़ी संख्या को काबू कर पाना मुश्किल होता है। एयरपोर्ट पर 2 से 3 लाख यात्री रोजाना आ रहे हैं। हम व्यस्त घंटों में फ्लाइट घटा रहे हैं। लेकिन इससे यात्रियों को परेशानी होगी।’

See also  ट्राली बैग के हैंडल से निकलने लगे नोट ही नोट

See also  आगरा न्यूज: आगरा सपा कार्यालय पर मनाई गई महर्षि वाल्मीकि जयंती, उनके रास्ते पर चलने का लिया संकल्प
Share This Article
Editor in Chief of Agra Bharat Hindi Dainik Newspaper
Leave a comment

Leave a Reply

error: AGRABHARAT.COM Copywrite Content.