जहां पति माता-पिता का अपमान हो नहीं जाना चाहिए- आचार्य आदित्य मनोहर

Dharmender Singh Malik
1 Min Read

फतेहपुर सीकरी। श्री शिव महापुराण कथा के तीसरे दिन कथा व्यास ने सती खंड की कथा का श्रवण कराते हुए कहा जहां अपमान हो वहां नहीं जाना चाहिए। संगीतमय कथा में सैकड़ों महिला-पुरुष श्रद्धालु भगवान शिव की भक्ति में सरोबार हो रहे हैं। कथा व्यास आचार्य आदित्य मनोहर पाठक ने कथा के तीसरे दिन सती खंड की कथा का श्रवण कराते हुए कहा कि राजा दक्ष द्वारा किए यज्ञ के आयोजन में सभी को निमंत्रण दिया गया मगर भगवान शिव को नहीं बुलाया गया।

भगवान से द्वारा मना करने के बाद भी माता सती अपने पिता के यज्ञ में भाग लेने जा पहुंची और वहां शिव का अपमान हुआ। कहा कि जहां पति का माता-पिता का अपमान हो वँहा नहीं जाना चाहिए। देश धर्म का अपमान हो वहां पर प्रबल विरोध करना चाहिए। कथा में संगीत में संकीर्तन भजनों पर श्रद्धालु से भक्ति में सरोवर होकर झूमने लगे ।

See also  मैनपुरी : गणेश विसर्जन के दौरान पांच युवक डूबे, 3 की मौत; एक दो की हालत गंभीर

कथा के दौरान स्वामी शोभानंद भारती भी मौजूद रहे। कथा में राजेंद्र प्रजापति, फूल सिंह मास्टर, आकाश प्रजापति, मुकेश शर्मा, योगेश अग्रवाल, दीना कुशवाह, अमित गोयल, रामू जयसवाल, दिनेश मित्तल ,विनोद गोयल आदि प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

See also  किरावली अछनेरा विद्युत विभाग सुर्खियों में: ग्रामीण बोले अवैध वसूली नहीं देने पर एफआईआर कराने की मिलती है धमकी
Share This Article
Editor in Chief of Agra Bharat Hindi Dainik Newspaper
Leave a comment

Leave a Reply

error: AGRABHARAT.COM Copywrite Content.