अडानी समूह से जुड़े आठ पब्लिक फंड में से ये छह बंद हुए, सेबी के लिए बढ़ी परेशानी

Dharmender Singh Malik
3 Min Read

मुंबई । आठ पब्लिक फंड में से छह, जिनका उपयोग कथित तौर पर अदाणी ग्रुप से जुड़े व्यक्तियों द्वारा ग्रुप की सार्वजनिक रूप से कारोबार वाली कंपनियों के शेयर खरीदने के लिए किया गया था, बंद किए गए हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, ये फंड बरमूडा और मॉरीशस में स्थित थे। इन फंडों के बंद होने से भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के लिए इन फंडों से लाभान्वित होने वाले वास्तविक लाभार्थियों की पहचान करना और उनका पता लगाना मुश्किल हो रहा है। संगठित अपराध और भ्रष्टाचार रिपोर्टिंग प्रोजेक्ट की रिपोर्ट के अनुसार, अदाणी परिवार से जुड़े व्यक्तियों ने कथित तौर पर इन फंडों का इस्तेमाल अदाणी समूह की कंपनियों में पर्याप्त स्वामित्व हासिल करने के लिए किया, जिससे संभावित रूप से भारत के अधिकतम स्वामित्व कानून का उल्लंघन हुआ।

See also  केंद्र सरकार ने Income Tax भरने वालों को दी बड़ी राहत, वित्त मंत्रालय ने दी जानकारी

Agra News : ट्रिपल पी फार्मूला पर केंद्रित रहेगा ‘आगरा फुटवियर काॅन्क्लेव’

रिपोर्ट में बताया गया है कि इनमें से कुछ फंड इसकारण बंद हो गए क्योंकि भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने 2020 में मामले की जांच शुरू की थी। रिपोर्ट में बताया गया है, हालातों से संकेत मिलता है कि यदि भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने पहले ही इन बंद संस्थाओं की जांच शुरू कर दी होती, तब वह यह पता लगाने में कामयाब हो सकती थी कि क्या अदाणी समूह के शेयर की कीमतों में हेरफेर करने में उनका हाथ था। अब जब ये फंड बंद हो गए हैं, तब सेबी के लिए यह पता लगाना बहुत कठिन हो गया है कि आखिरकार इन संस्थाओं से किसे लाभ हुआ क्योंकि जानकारी आसानी से उपलब्ध नहीं है।

See also  सिर्फ 4 महीने में इस शेयर ने निवेशकों को दिया बंपर रिटर्न, अब बोनस भी देगी कंपनी

1 स्‍कूटर, 2 बाइक और 2 नई कारें होंगी लांच, देश में तेजी से बढ़ रहा ऑटोमोबाइल मार्केट

मॉरीशस में स्थित एसेंट ट्रेड एंड इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना अप्रैल 2010 में हुई थी लेकिन जून 2019 में इसका संचालन बंद हो गया। दिसंबर 2009 में स्थापित लिंगो ट्रेडिंग एंड इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड ने मार्च 2015 में ऑपरेशन बंद कर दिया। मध्य पूर्व महासागर व्यापार एवं निवेश प्राइवेट लिमिटेड सितंबर 2011 में बनाया गया था लेकिन पिछले साल अगस्त में बंद हो गया। मई 2008 में स्थापित इमर्जिंग इंडिया फोकस फंड अभी भी चालू है। दिलचस्प बात यह है कि इनमें से कुछ फंड अपेक्षाकृत जल्दी बंद हो गए, जो इस तरह के फंडों के लिए सामान्य नहीं है। उदाहरण के लिए, बरमूडा-रजिस्टर्ड ग्लोबल अपॉर्चुनिटीज़ फंड, जो 6 जनवरी 2005 को पंजीकृत किया गया था, 12 दिसंबर 2006 को बंद कर दिया गया था। किसी फंड को बंद करना विभिन्न कारणों से हो सकता है, जैसे कि जब यह दिवालिया हो जाता है, जब इसे किसी नए मालिक द्वारा अधिग्रहित किया जाता है जो इसकी संपत्ति ट्रांसफर करता है, या जब निवेशक स्वयं इसे बंद करने का निर्णय लेते हैं।

See also  ईंधन की ऊंची कीमतों से आम जनता का जीवन कठिन हुआ

See also  Gold Price Today: फिर से आसमान छूने को तैयार सोने की कीमतें, यहां है सबसे सस्ता रेट, चेक करें लिस्ट
Share This Article
Editor in Chief of Agra Bharat Hindi Dainik Newspaper
Leave a comment

Leave a Reply

error: AGRABHARAT.COM Copywrite Content.