उप्र के गोरखपुर में जमीन फाड़कर प्रकट हुई काली माता की प्रतिमा

Manisha singh
2 Min Read

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक ऐसा मंदिर है, जहां जमीन से काली माता की प्रतिमा प्रकट हुई थी। इस मंदिर की मान्यता बहुत पुरानी है और यहां दूर-दूर से श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं।

मंदिर का इतिहास:

मंदिर के इतिहास के अनुसार, आज के गोलघर का यह हिस्सा कभी पुरदिलपुर गांव हुआ करता था। उस समय यह गांव जंगल में था। एक दिन एक ग्रामीण ने नीम के पेड़ के नीचे एक मुखौटा देखा। उसने उसे उठाकर घर ले गया। लेकिन रात में मुखौटा वापस उसी स्थान पर आ गया। इस घटना के बाद ग्रामीणों ने उस स्थान पर चबूतरा बनाकर पूजा अर्चना शुरू कर दी।

See also  क्रिकेट मैच में दसवीं की टीम ने मारी बाज़ी

एक दिन उसी स्थान पर जमीन फाड़कर काली माता की प्रतिमा प्रकट हुई। इस घटना के बाद इस स्थान पर मंदिर बनवाया गया। इस मंदिर का जिक्र आईने-गोरखपुर की किताब में भी मिलता है।

मंदिर का महत्व:

काली माता को शक्ति और भक्ति का प्रतीक माना जाता है। इस मंदिर में काली माता की प्रतिमा बहुत ही भव्य है। मंदिर के गर्भगृह में माता की प्रतिमा के ठीक सामने स्वयंभू मुखौटा भी रखा हुआ है।

मंदिर में नवरात्रि के दौरान विशेष आयोजन होता है। इस दौरान यहां मेला लगता है और लाखों श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं।

गोरखपुर का यह मंदिर काली माता के भक्तों के लिए एक प्रमुख तीर्थस्थल है। यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

See also  बाईकों की भिड़ंत में शिक्षक की मौत, एक घायल

See also  पिनाहट कस्बा का मुख्य मार्ग भारी वाहन ट्रकों के कारण गड्ढों में तब्दील
Share This Article
Follow:
Manisha Singh is a freelancer, content writer,Yoga Practitioner, part time working with AgraBharat.
Leave a comment

Leave a Reply

error: AGRABHARAT.COM Copywrite Content.