क्या आपने सोचा है: चुनावों से पहले ही सरकारी भर्ती क्यों, रोजगार या चुनावी लाभ

Faizan Khan
2 Min Read

आखिर सरकार को चुनाव आने पहले युवाओं को नौकरी देने की याद क्यों आ जाती है। सालो से इंतजार कर रहे युवाओं के जीवन से ऐसा खिलवाड़ क्यों,लेकिन इसका भी एक वजह है। आइए जानते है सरकारें चुनाव से पहले जनता को खुश करने के लिए भी यह प्रक्रिया का इस्तेमाल करती है यह भी एक वजह हो सकती है..आपको बताए की चुनाव आने से पहले सरकारी नौकरियों की भर्ती शुरू हो जाती है। सरकारी नौकरियों की भर्ती से लोगों को रोजगार मिलता है और उनकी आर्थिक स्थिति में सुधार होता है इसकी याद चुनावो से समय ही क्यों आती है। यह सरकार के लिए एक अच्छा विकल्प होता है क्योंकि इससे उन्हें जनता का समर्थन प्राप्त होता है।

See also  आगरा न्यूज: नए समय से पुरानी यादों की ओर ले जाता है रेडियो

भारत में, चुनावों से पहले सरकारी नौकरियों की भर्ती का एक लंबा इतिहास रहा है। 1971 के आम चुनावों से पहले, तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने 10 लाख सरकारी नौकरियों की भर्ती की घोषणा की थी। इस घोषणा ने उन्हें चुनावों में जीत हासिल करने में मदद की।

हालांकि, कुछ लोगों का मानना है कि चुनावों से पहले सरकारी नौकरियों की भर्ती एक चुनावी रणनीति है। उनका कहना है कि सरकारें चुनावों में जीत हासिल करने के लिए इस तरह की भर्ती करती हैं उन्हें जनता से कोई सरोकार नहीं होता है वह बस अपने फायदे के लिए ही यह प्रक्रिया करती है युवा पढ़ लिख कर नौकरी करने की चाहत रखता है लेकिन सरकार चुनावो तक उसको इंतजार करने के भर्ती निकलती है।

See also  आगरा न्यूज: बशीर उल हक रॉकी बने उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग से आगरा शहर अध्यक्ष

चाहे यह एक चुनावी रणनीति हो या नहीं, चुनावों से पहले सरकारी नौकरियों की भर्ती एक सामान्य है। यह सरकारों के लिए एक रणनीति है और यह उन्हें जनता का समर्थन प्राप्त करने में मदद करती है और चुनावो में भी इसका असर देखने को काफी मिलता है इस काफी हद तक लाभ भी होता है।

See also  उत्तर प्रदेश पुलिस एवं समीक्षा अधिकारी परीक्षा पेपर लीक मामले में आम आदमी पार्टी का ज्ञापन
Share This Article
Follow:
फैजान खान- संवाददाता दैनिक अग्र भारत समाचार ।
Leave a comment

Leave a Reply

error: AGRABHARAT.COM Copywrite Content.